महिला दिवस

महिला दिवस क्या होता है  ?

हर जीवनका प्रथम दिवसही

पहला महिला दिवस होता है

उस दिनकी कोखसे ही तो

रात-दिनका यह सिलसिला

अविरत जनम लेता है !

महिला दिवस कब नही होता ?

वह कौनसा दिन होगा

जो नारीके अस्तित्त्व बिना 

आरंभ या समाप्त हुआ होगा ?

संसारमें नारीके ना होते

क्या कोई भविष्यमेंभी होगा ? 

उस अंतहीन यात्राके पथिक

समय-रथके दो पहिये रहे

एक नर, दुजी नारी कहे

ईश्वर करे, दोनों साथ संतुष्ट रहें—

अन्यथा…..महिला दिवसकी गरिमा कैसी बनी रहे ?

Advertisements

प्रतिक्रिया व्यक्त करा

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदला )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदला )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदला )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदला )

Connecting to %s


%d bloggers like this: