टीस

विश्व-निर्माणके पूर्व ,
था ब्रह्म एकल सम्पूर्ण
सदैव सत-चित-आनंदमें स्थित
परंतु स्वयमसे अपरिचित
किसीभी अनुभूतीसे परे
अद्वैत सर्वत्र विचरे

अनुभवके माध्यमसे
अपने आपको जाननेकी,
किसी और दृष्टीसे
स्वयमको पहचाननेकी
आंतरिक स्फूर्तीसे
हुई रचना फिर द्वैतकी !

स्वयमसे भिन्न होकर
परम-आनंदकी दशा त्यागकर
ब्रम्हने सोच विचार कर
टीसका आविष्कार कर,
आत्म-अनुभूतीके हेतुसे,
किया आरंभ विश्वसंभार फिर !

अद्वैत छोड गर प्रभू
न त्यागते आनंदको,
और अपनाते द्वैतकी टीसको
शायदही होता अनेकता,
भिन्नताका यह निर्माण…
ना ही मिलता किसीभी
अनुभवका यथार्थ परिमाण !

क्योंकी एकही होता है

स्वर्ग तो सबका,
किंतु नर्क अपना
अलग हरेक का….

सही मानेमें यह एक वरदान,
अपनी टीसही ,

देती है प्रत्येकको
अपनी-अपनी, अलग पहचान !

Advertisements

प्रतिक्रिया व्यक्त करा

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदला )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदला )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदला )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदला )

Connecting to %s


%d bloggers like this: