हिंदी संकीर्ण

सुबह सुबह, एसेमेस उसका
मीठा, जैसे जूस ‘ऊस’ का !
*********************
सुबह हुई, है कहाँ एसेमेस उसका
रोज़ वह पढनेका लगा है चसका
यह आदत छोड दूँ, नही मेरे बसका!
*********************
एक ज़माना था, जब थे यह कहते,
‘ कितने हैं हमारे खयालात मिलते!’
अब तो यह आलम है के हर पल
कहते हैं याद कर गुज़रा हुआ कल,
‘हमखयाल, और हम ?  इम्पॉसिबल!’
*********************

Advertisements

प्रतिक्रिया व्यक्त करा

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदला )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदला )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदला )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदला )

Connecting to %s


%d bloggers like this: